श्रीमद्भागवताऽमृतम्॥

सच्चिदानन्दरूपाय विश्वोत्पत्यादि हेतवे।
तापत्रयविनाशाय श्रीकृष्णाय वयं नुम:॥

श्रीरामकथाऽमृतम्।

रामकथा जहं सुरसरी धारा। सरसई ब्रह्म बिचार प्रचारा॥
बिधि निषेधमय कलिमल हरनी। करमकथा रबिनंदिनी बरनी॥

Tarpan

7.00

Books & Kundli

शाकद्वीपीय ब्राह्मण परिचय

150.00

28 in stock

भागवती भूगोल PDF

100.00

जन्मकुण्डली

901.00

कार्यक्रम समाचार

श्रीमद्भागवतामृतम्- बोधीपारा

श्रीमद्भागवतामृतम्- बोधीपारा

।।श्रीमद्भागवतामृतम्।। सच्चिदानन्द रूपाय विश्वोत्पत्यादि हेतवे । तापत्रय विनाशाय श्रीकृष्णाय वयं नुमः ।। क्रमांक- 189/2022 स्थान-ग्राम बोधीपारा सौजन्य -...

read more
श्रीमद्भागवतामृतम्- नानापुरी

श्रीमद्भागवतामृतम्- नानापुरी

।।श्रीमद्भागवतामृतम्।। सच्चिदानन्द रूपाय विश्वोत्पत्यादि हतेवे । तापत्रय विनाशाय श्रीकृष्णाय वयं नुमः ।। क्रमांक- 188/2021 स्थान-ग्राम नानापुरी सौजन्य -...

read more
श्रीमद्भागवतामृतम् – भुसुण्डी

श्रीमद्भागवतामृतम् – भुसुण्डी

श्रीमद्भागवतामृतम् श्रीराधा सच्चिदानन्दरूपाय विश्वोत्पत्यादिहेतवे । तापत्रयविनाशाय श्रीकृष्णाय वयं नुमः ।। क्रमांक - 186/2021 स्थान -भुसुण्डी सौजन्य -...

read more

Website News

हमारी सेवायें ही क्यों?

हमारी सेवायें ही क्यों?

अगर आप एक अच्‍छा और कम लागत पर अपनी वेबसाईट बनवाना चाहते हैं और अपने नाम, संस्था(ट्रस्ट), संगठन, विद्यालय, समिति, कम्पनी या व्‍यापार को एक नया आयाम देना चाहते...

read more

उपयोगी बातें

कुछ याद रहे कुछ भुला दिए

कुछ याद रहे कुछ भुला दिए

कुछ याद रहे कुछ भुला दिए हम प्रतिक्षण बढ़ते जाते हैं, हर पल छलकते जाते हैं, कारवां पीछे नहीं दिखता, हर चेहरे बदलते जाते हैं। हर पल का संस्मरण लिए, कुछ धरे,...

read more
चौरासी लाख योनियों का रहस्य

चौरासी लाख योनियों का रहस्य

चौरासी लाख योनियों का रहस्य हिन्दू धर्म में पुराणों में वर्णित ८४००००० योनियों के बारे में आपने कभी ना कभी अवश्य सुना होगा। हम जिस मनुष्य योनि में जी रहे हैं...

read more
देवर्षि नारद

देवर्षि नारद

जब दूसरा सत्ययुग चल रहा था, उस सतयुग में सारस्वत नामक एक ब्राह्मण हुए, उन्हें सारे वेद वेदाङ्ग पुराण कंठस्थ थे । उत्तम बुद्धि तो ब्राह्मण के पास थी ही, साथ ही...

read more
भगवान परशुराम

भगवान परशुराम

भगवान परशुराम परशुराम जी स्वभाव से क्यों थे इतने क्रोधी? आखिर क्षत्रियों से क्यों हुआ इनको बैर? सूर्य पुत्र वैवस्वत मनु हुए, इन्हें श्राद्धदेव भी कहते थे।...

read more
मां नर्मदा

मां नर्मदा

मां नर्मदा कहते हैं नर्मदा ने अपने प्रेमी शोणभद्र से धोखा खाने के बाद आजीवन कुंवारी रहने का फैसला किया लेकिन क्या सचमुच वह गुस्से की आग में चिरकुवांरी बनी रही...

read more
विवाह में सात फेरे ही क्यों लेते हैं?

विवाह में सात फेरे ही क्यों लेते हैं?

विवाह में सात फेरे ही क्यों लेते हैं? आखिर हिन्दू विवाह के समय अग्नि के समक्ष सात फेरे ही क्यों लेते हैं? दूसरा यह कि क्या फेरे लेना जरूरी है? पाणिग्रहण का...

read more
जीवन का कठोर सत्य

जीवन का कठोर सत्य

जीवन का कठोर सत्य भगवान विष्णु गरुड़ पर बैठ कर कैलाश पर्वत पर गए। द्वार पर गरुड़ को छोड़ कर स्वयं शिव से मिलने अंदर चले गए। तब कैलाश की अपूर्व प्राकृतिक शोभा...

read more
कुण्डलीमिलान—कितना उचित, कितना व्यावहारिक?

कुण्डलीमिलान—कितना उचित, कितना व्यावहारिक?

कुण्डलीमिलान—कितना उचित, कितना व्यावहारिक लड़का-लड़की के विवाह हेतु दोनों की जन्मकुण्डली का मिलान करने की परम्परा है, जिसे मेलापकविचार, अष्टकूटमिलान,...

read more
तेरी आरती उतारूं नंद लाल जी।

तेरी आरती उतारूं नंद लाल जी।

तेरी आरती उतारूं नंद लाल जी। आवो आवो है मेरे गोपाल जी।। हिमालय की शुभ्र ज्योत्सना। पावन मन की शीतल भावना।। तुमको परोसूं भरी थाल जी। आवो आवो है मेरे गोपाल जी।।...

read more
दान का रहस्य

दान का रहस्य

दान का रहस्य स्कन्द पुराण में वर्णन है कि राजा धर्मवर्मा ने दान के तत्व जानने के लिए तप किया तो आकाशवाणी द्वारा एक श्लोक में इसके रहस्य का वर्णन किया गया ----...

read more

Copy न करें, Share करें।