Our Blog

Welcome to our article and information field.

कुछ याद रहे कुछ भुला दिए

कुछ याद रहे कुछ भुला दिए

कुछ याद रहे कुछ भुला दिए हम प्रतिक्षण बढ़ते जाते हैं, हर पल छलकते जाते हैं, कारवां पीछे नहीं दिखता, हर चेहरे बदलते जाते हैं। हर पल का संस्मरण लिए, कुछ धरे,...

read more
चौरासी लाख योनियों का रहस्य

चौरासी लाख योनियों का रहस्य

चौरासी लाख योनियों का रहस्य हिन्दू धर्म में पुराणों में वर्णित ८४००००० योनियों के बारे में आपने कभी ना कभी अवश्य सुना होगा। हम जिस मनुष्य योनि में जी रहे हैं...

read more
देवर्षि नारद

देवर्षि नारद

जब दूसरा सत्ययुग चल रहा था, उस सतयुग में सारस्वत नामक एक ब्राह्मण हुए, उन्हें सारे वेद वेदाङ्ग पुराण कंठस्थ थे । उत्तम बुद्धि तो ब्राह्मण के पास थी ही, साथ ही...

read more
भगवान परशुराम

भगवान परशुराम

भगवान परशुराम परशुराम जी स्वभाव से क्यों थे इतने क्रोधी? आखिर क्षत्रियों से क्यों हुआ इनको बैर? सूर्य पुत्र वैवस्वत मनु हुए, इन्हें श्राद्धदेव भी कहते थे।...

read more
मां नर्मदा

मां नर्मदा

मां नर्मदा कहते हैं नर्मदा ने अपने प्रेमी शोणभद्र से धोखा खाने के बाद आजीवन कुंवारी रहने का फैसला किया लेकिन क्या सचमुच वह गुस्से की आग में चिरकुवांरी बनी रही...

read more
विवाह में सात फेरे ही क्यों लेते हैं?

विवाह में सात फेरे ही क्यों लेते हैं?

विवाह में सात फेरे ही क्यों लेते हैं? आखिर हिन्दू विवाह के समय अग्नि के समक्ष सात फेरे ही क्यों लेते हैं? दूसरा यह कि क्या फेरे लेना जरूरी है? पाणिग्रहण का...

read more
जीवन का कठोर सत्य

जीवन का कठोर सत्य

जीवन का कठोर सत्य भगवान विष्णु गरुड़ पर बैठ कर कैलाश पर्वत पर गए। द्वार पर गरुड़ को छोड़ कर स्वयं शिव से मिलने अंदर चले गए। तब कैलाश की अपूर्व प्राकृतिक शोभा...

read more
कुण्डलीमिलान—कितना उचित, कितना व्यावहारिक?

कुण्डलीमिलान—कितना उचित, कितना व्यावहारिक?

कुण्डलीमिलान—कितना उचित, कितना व्यावहारिक लड़का-लड़की के विवाह हेतु दोनों की जन्मकुण्डली का मिलान करने की परम्परा है, जिसे मेलापकविचार, अष्टकूटमिलान,...

read more
तेरी आरती उतारूं नंद लाल जी।

तेरी आरती उतारूं नंद लाल जी।

तेरी आरती उतारूं नंद लाल जी। आवो आवो है मेरे गोपाल जी।। हिमालय की शुभ्र ज्योत्सना। पावन मन की शीतल भावना।। तुमको परोसूं भरी थाल जी। आवो आवो है मेरे गोपाल जी।।...

read more
दान का रहस्य

दान का रहस्य

दान का रहस्य स्कन्द पुराण में वर्णन है कि राजा धर्मवर्मा ने दान के तत्व जानने के लिए तप किया तो आकाशवाणी द्वारा एक श्लोक में इसके रहस्य का वर्णन किया गया ----...

read more
विश्वविजय सरस्वती कवच

विश्वविजय सरस्वती कवच

विश्वविजय सरस्वती कवच श्रीब्रह्मवैवर्त-पुराण के प्रकृतिखण्ड, अध्याय ४ में मुनिवर भगवान् नारायण ने मुनिवर नारदजी को बतलाया कि ‘विप्रेन्द्र ! सरस्वती का कवच...

read more
सम्राट विक्रमादित्य

सम्राट विक्रमादित्य

सम्राट विक्रमादित्य सम्राट विक्रमादित्य के नाम से विक्रम संवत चल रहा और 2078 पूर्ण होकर 2 अप्रैल (चैत्र शुक्‍ल प्रतिपदा) से 2079 विक्रम संवत आरम्भ हो रहा।...

read more
भास्कराचार्य Bhashkaracharya

भास्कराचार्य Bhashkaracharya

भास्कराचार्य Bhashkaracharya भास्कराचार्य प्राचीन भारत के एक प्रसिद्ध गणितज्ञ एवं ज्योतिषी थे। इनके द्वारा रचित मुख्य ग्रन्थ सिद्धान्त शिरोमणि है जिसमें...

read more
महर्षि कणाद- परमाणु शास्त्र के जनक

महर्षि कणाद- परमाणु शास्त्र के जनक

महर्षि कणाद- परमाणु शास्त्र के जनक महर्षि कणाद को परमाणु सिद्धांत का जनक माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि आज से वे 2600 वर्ष पहले हुए थे। वे एक महान ऋषि भी...

read more
महर्षि दधीचि

महर्षि दधीचि

महर्षि दधीचि दधीचि वैदिक ऋषि थे। उनके पिता एक महान ऋषि अथर्वा जी थे और माता का नाम शांति था। वे ब्राह्मण कुल के थे। उन्होंने अपना संपूर्ण जीवन शिव की भक्ति...

read more
श्रीमद्भागवतामृतम्- बोधीपारा

श्रीमद्भागवतामृतम्- बोधीपारा

।।श्रीमद्भागवतामृतम्।। सच्चिदानन्द रूपाय विश्वोत्पत्यादि हेतवे । तापत्रय विनाशाय श्रीकृष्णाय वयं नुमः ।। क्रमांक- 189/2022 स्थान-ग्राम बोधीपारा सौजन्य -...

read more
अनंत चतुर्दशी

अनंत चतुर्दशी

अनंत चतुर्दशी 14 गांठों का रहस्य? इस दिन भगवान विष्णु के अनंत रूप की पूजा की जाती है। इस दिन 14 गांठों वाला अनंत सूत्र भी बांधा जाता है। अनंत चतुर्दशी के दिन...

read more
कर्मबीज

कर्मबीज

कर्मबीज मैं रहूं या ना तुम चलो खुद से पथ मिलेगा। नैपथ्य जो है अंधेरे में तो भी क्या लव साथ है अहर्निश तू जला बूझा सो क्योंकि तू करूणा है नवसृजन ही है लक्ष्य...

read more
भगवान् के नाम का इन परिस्थितियों विशेष प्रभाव

भगवान् के नाम का इन परिस्थितियों विशेष प्रभाव

भगवान् के नाम का इन परिस्थितियों विशेष प्रभाव भगवान विष्णु के १६ नामों का एक छोटा श्लोक प्रस्तुत है । इसमें मनुष्य को किस किस अवस्थाओं में भगवान विष्णु को किस...

read more
ऐसो गति करो नन्दलाल।

ऐसो गति करो नन्दलाल।

ऐसो गति करो नन्दलाल। गंगा जमुना जल मुखमांहि, कण्ठ तुलसीका माल॥०१॥ महाप्रसाद नित भोजन होवे, पादोदक सोहे भाल॥०२॥ सन्ध्या पूजन सतसंग मिले नित, कीर्तन धुन...

read more
जानिए – दशहरा का वास्तविक अर्थ क्या है?

जानिए – दशहरा का वास्तविक अर्थ क्या है?

जानिए - दशहरा का वास्तविक अर्थ क्या है? ‘दशहरा’ एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है “दस को हरने वाली [तिथि]”। “दश हरति इति दशहरा”। ‘दश’ कर्म उपपद होने पर ‘हृञ्...

read more
महिषासुर मर्दिनी स्तोत्र

महिषासुर मर्दिनी स्तोत्र

महिषासुर मर्दिनी स्तोत्र अयि गिरि नन्दिनी नन्दितमेदिनि विश्वविनोदिनि नन्दिनुते। गिरिवर विन्ध्यशिरोधिनिवासिनी विष्णुविलासिनि जिष्णुनुते। भगवति हे...

read more
हरि मेरो हरो ज्ञान अभिमान

हरि मेरो हरो ज्ञान अभिमान

हरि मेरो हरो ज्ञान अभिमान। कोई बात सुनो नहीं जब लौं, होय न करूणा गान॥०१॥ सोई धन छिन लेहू यदुनन्दन, बिस्मृत रहे भगवान्॥०२॥ ज्ञान मान सब झार निकालहु, चलतो...

read more
मलमास में मृतक का वार्षिक श्राद्ध कब करें?

मलमास में मृतक का वार्षिक श्राद्ध कब करें?

प्र. मलमास में मृत व्यक्ति का वार्षिक श्राद्ध कब करना चाहिये? उ. एक वर्ष बाद शास्त्रीय प्रमाण क्या है? गरुण पुराण प्रेतकल्प अध्याय 13 श्लोक संख्या 101 से 106...

read more
श्रीमद्भागवतामृतम्- नानापुरी

श्रीमद्भागवतामृतम्- नानापुरी

।।श्रीमद्भागवतामृतम्।। सच्चिदानन्द रूपाय विश्वोत्पत्यादि हतेवे । तापत्रय विनाशाय श्रीकृष्णाय वयं नुमः ।। क्रमांक- 188/2021 स्थान-ग्राम नानापुरी सौजन्य -...

read more
वह कौन?

वह कौन?

वह कौन? जो नित्य, साश्वत, शुद्ध-बुद्ध। निरस्पृह, निर्मम और प्रतिक्षण संशुद्ध। जल पवन अग्नि आकाश धरा से पृथक्। तन्मात्रायें, तत्व, अन्त:करण गति अथक्। वेद संवेद...

read more
श्रीगणेशस्तोत्रम्

श्रीगणेशस्तोत्रम्

।।श्रीगणेशस्तोत्रम् ।। श्रीगौरीसुतवीरबालकवरो यो वै गणानां पतिः बुद्धिरूपकदेव एव भुवने सर्वेषु यो मान्यते । सर्वज्ञस्स गजाननो गणपतिः साक्षात्स माहेश्वरो वन्दे...

read more
राघवयादवीयम्

राघवयादवीयम्

।। श्रीगणेशाय नम:।। राघवयादवीयम् क्या ऐसा संभव है कि जब आप किताब को सीधा पढ़े तो रामायण की कथा पढ़ी जाए और जब उसी किताब में लिखे शब्दों को उल्टा करके पढ़े तो...

read more
हे री जब ते श्याम निहारे कुंजन को।

हे री जब ते श्याम निहारे कुंजन को।

हे री जब ते श्याम निहारे कुंजन को। नव नव सुमन खिले सब बृक्षन, नित नवीन पुष्पन को॥०१॥ कुसुम गुच्छ निज हाथ लिये हरि, तरसत भानुलली दरसन को॥०२॥ इत उत देखत दौरि...

read more
श्रीमद्भागवतामृतम् – भुसुण्डी

श्रीमद्भागवतामृतम् – भुसुण्डी

श्रीमद्भागवतामृतम् श्रीराधा सच्चिदानन्दरूपाय विश्वोत्पत्यादिहेतवे । तापत्रयविनाशाय श्रीकृष्णाय वयं नुमः ।। क्रमांक - 186/2021 स्थान -भुसुण्डी सौजन्य -...

read more
श्रीगणेश पंचरत्न स्तोत्रम्

श्रीगणेश पंचरत्न स्तोत्रम्

श्रीगणेश पंचरत्न स्तोत्रम् मुदाकरात्तमोदकं सदा विमुक्तिसाधकं कलाधरावतंसकं विलासिलोकरक्षकम् । अनायकैकनायकं विनाशितेभदैत्यकं नताशुभाशुनाशकं नमामि तं विनायकम्...

read more
श्रीराम वनगमन मार्ग- 14 वर्ष कठोर वनवास

श्रीराम वनगमन मार्ग- 14 वर्ष कठोर वनवास

श्रीराम वनगमन मार्ग- (Ram Van Gaman Marg) 14 वर्ष के वनवास में श्रीराम वनगमन मार्ग में प्रमुख रूप से 17 जगह रुके, देखिए यात्रा का नक्शा... प्रभु श्रीराम को 14...

read more
दीपश्राद्ध

दीपश्राद्ध

दीपश्राद्ध Deepshraddha हमारी परम्पराओं में बहुत सी बातें ऐसी हैं, जिनके बारे में हम बिलकुल नहीं जानते। कुछ के बारे में जानते भी है, तो आधे-अधूरे या गलत रुप...

read more
शिव तांडव स्तोत्र 17 श्लोक How to read shivtandavstotram

शिव तांडव स्तोत्र 17 श्लोक How to read shivtandavstotram

शिव तांडव स्तोत्र शिव तांडव स्तोत्र श्लोक 01 जटाटवीगलज्जलप्रवाहपावितस्थले गलेऽवलम्ब्यलम्बितां भुजङ्गतुङ्गमालिकाम्‌। डमड्डमड्डमड्डमन्निनादवड्डमर्वयं...

read more
शिव सहस्त्रनाम

शिव सहस्त्रनाम

शिव सहस्त्रनाम ॐ स्थिराय नमः॥ॐ स्थाणवे नमः॥ॐ प्रभवे नमः॥ॐ भीमाय नमः॥ॐ प्रवराय नमः॥ॐ वरदाय नमः॥ॐ वराय नमः॥ॐ सर्वात्मन नमः॥ ॐ सर्वविख्याताय नमः॥ ॐ सर्वस्मै नमः॥...

read more
गोपीगीत

गोपीगीत

गोपी गीत डाउनलोड करें। रासक्रीड़ा आरंभ हुई, खूब ऊँचे स्वर से गान होने लगा। गोपियाँ प्रेम से नाचने लगीं। इस प्रकार वहाँ अपूर्व आनन्द छा गया। धीरे-धीरे भगवान की...

read more
वैदिक गणित

वैदिक गणित

पुस्तक पढ़ने हेतु चित्र पर क्लिक करें। युवकों को वैदिक प्रणाली सीखने व सिखाने के लिए एक पुस्तिका तैयार की गई है, जो...

read more
अष्टादसश्लोकी गीता

अष्टादसश्लोकी गीता

पुस्तक पढ़ने हेतु चित्र पर क्लिक करें। श्रीमद भगवद गीता का माहात्म्यं  श्री वाराह पुराण में  गीता का माहात्म्यं...

read more
आयुर्वैदिक प्रयोग ०२

आयुर्वैदिक प्रयोग ०२

अमृत धारा ---------------- घटक - कपूर - 10 ग्राम, फूल पिपरमेण्‍ट - 10 ग्राम, अजवायन सत - 10 ग्राम। बनाने की विधि-  सभी औषधि को एक शीशी में मिलाकर मुंह बन्‍दकर...

read more
आयुर्वैदिक प्रयोग ०१

आयुर्वैदिक प्रयोग ०१

हमारे समाज में देखा जाता है कि कुछ बजुर्ग ऐसे होते हैं जिन्‍हें उनके शरीर के जोड़ों में या अन्‍य अवयवों में असहनीय दर्द होता है। बच्‍चे दवा दे जाते हैं...

read more
हमारी सेवायें ही क्यों?

हमारी सेवायें ही क्यों?

अगर आप एक अच्‍छा और कम लागत पर अपनी वेबसाईट बनवाना चाहते हैं और अपने नाम, संस्था(ट्रस्ट), संगठन, विद्यालय, समिति, कम्पनी या व्‍यापार को एक नया आयाम देना चाहते...

read more

Copy न करें, Share करें।